बिहार- बारिश से उत्तर बिहार में नदियां उफान पर, बगहा के दर्जनों गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

बिहार- बारिश से उत्तर बिहार में नदियां उफान पर, बगहा के दर्जनों गांवों में घुसा बाढ़ का पानी

● मधुबनी व समस्तीपुर में भी बढ़ा नदियों का जलस्तर

Desk – Dbn News
पटना/बिहार

पिछले चौबीस घंटे से लगातार हो रही बाारिश से उत्तर बिहार की नदियां उफान मारने लगी है। हालांकि अभी गंगा, गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती सहित सभी प्रमुख नदियां खतरे के निशान से नीचे ही हैं। वाल्मीकि बराज से मंगलवार की शाम में 2.64 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। इससे वाल्मीकिनगर से नौतन तक के नदी से सटे दियारावर्ती गांवों में पानी घुस गया है। वहीं कोसी नदी का डिस्चार्ज 60 हजार क्यूसेक रहा जो सामान्य है।
पश्चिम चम्पारण के गौनाहा में बहा पुल का एप्रोच पथ
पश्चिम चंपारण में सोमवार रात से हो रही बारिश से गंडक, सिकरहना, मसान समेत पहाड़ी नदियों में उफान आ गया है। पहाड़ी नदियां किनारे बसे गांवों में तबाही मचा रहीं हैं। मसान में उफान से रामनगर और चौतरवा के दर्जनभर गांवों में पानी घुस गया है। इधर, गौनाहा की भितिहरवा पंचायत में मर्जदी गांव को जोड़ने वाले पुल का एप्रोच पथ कटहा नदी की तेज धार में बह गया। इससे दो हजार लोगों का संपर्क प्रखंड व जिला मुख्यालय से भंग हो गया। ठकरहा, चौतरवा समेत कई प्रखंडों के निचले इलाकों में पानी घुसने लगा है। ठकरहा के धनियापट्टी में डेढ़ सौ साल पुराना पेड़ उखड़ गया।

मुजफ्फरपुर में बागमती और बूढ़ी गंडक बढ़ने लगी रेड लाइन की ओर
उत्तर बिहार के जिलों के साथ ही नेपाल के तराई इलाकों में हो रही बारिश के कारण मुजफ्फरपुर में बागमती और बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में तेजी से वृद्धि हो रही है। हालांकि जलस्तर अभी खतरे के निशान से काफी नीचे है मगर औराई के कटौंझा में बागमती में पानी तेजी से बढ़ रहा है। सकरा सहित कई जगहों पर बूढ़ी गंडक में भी पिछले चौबीस घंटे में भारी वृद्धि हुई है। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं है मगर नदी के किनारे के गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। अगर इसी तरह अगले दो दिनों तक बारिश हुई तो नदी के किनारे के गांवों में पानी घुसने का आशंका बढ़ जाएगी।

मधुबनी में सामान्य है नदियों का जलस्तर

मधुबनी में रुक रुक कर हो रही बारिश के बावजूद नदियों का जलस्तर अभी तक सामान्य है। कोसी नदी में अभी पानी सामान्य स्तर पर है। कमला, बलान, धौंस सहित अन्य सभी नदियों का जलस्तर अभी तक सामान्य है।
पूर्वी चंपारण में गंडक के जलस्तर में वृद्धि
विगत चार दिनों से हो रही मानसून की बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। गंडक नदी के जलस्तर में वृद्धि जारी है। जबकि बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर लालबकेया गुवाबरी व अहिरौलिया में स्थिर है। गंडक नदी चटिया में 64.97 मीटर पर बह रही है। डुमरिया घाट में गंडक नदी का जलस्तर 61.88 मीटर है।
सीतामढ़ी में बागमती सहित अन्य नदियों में बढ़ रहा पानी
सीतामढ़ी जिले से गुजरने वाली बागमती व अधवारा समूह की नदी का जलस्तर सभी जगह बढ़ रहा है। बाढ़ नियंत्रण कार्यालय के अनुसार मंगलवार को बागमती चंदौली घाट में बढ़ रही है। वहीं बागमती नदी के ढेंग, सोनाखान, डुब्बाघाट व कटौझा में जलस्तर स्थिर है। ढेंग व सोनाखान में बागमती खतरे के निशान से दो मीटर कम है। जबकि चंदौली में करीब तीन मीटर व कटौझा में एक मीटर खतरे के निशान से कम है। अधवारा समूह की नदियां सोनबरसा में कम रही है। वहीं सुंदरपुर में वृद्धि हो रहा है।   जल अधिग्रहण क्षेत्र में दो दिनों से हो रही बारिश से जिले की नदियों में आंशिक वृद्धि देखी जा रही है। बारिश से जिले से होकर गुजरने वाली कमला-बलान, बागमती अधवारा समूह और कोसी की उपधारा के जलस्तर में मामूली वृद्धि दर्ज की गयी है। जलस्तर में वृद्धि के साथ ही कुशेश्वरस्थान पूर्वी प्रखंड के उजुआ गांव के पास कोसी की उपधारा से कटाव शुरू हो गया है।

Source by: hindustan.in

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *