दरभंगा – अपूर्ण आवासों को 31 दिसंबर तक कराएं पूर्ण – डीडीसी । लापरवाह आवास सहायकों के विरुद्ध होगी कार्रवाई

दरभंगा – अपूर्ण आवासों को 31 दिसंबर तक कराएं पूर्ण – डीडीसी । लापरवाह आवास सहायकों के विरुद्ध होगी कार्रवाई ।

प्रथम किश्त की राशि प्राप्त कर4 आवास निर्माण पूरा न कराने वालों से वसूली जाएगी राशि

योजना पूर्ण करवाने में शिथिलता बरतने वाले आवास सहायकों के विरुद्ध होगी कार्रवाई

 

 

 

 

 

 

 

दरभंगा, 20 दिसम्बर 2021 :- उप विकास आयुक्त तनय सुल्तानिया ने सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को पत्र निर्गत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत प्रथम किस्त की राशि भी प्राप्त करने वाले सभी लाभुकों द्वारा आवास निर्माण कार्य यदि 31 दिसम्बर 2021 तक पूर्ण नहीं किया जाता है तो, उनके विरुद्ध नीलाम पत्र वाद दायर कर उपलब्ध करायी गयी राशि की वसूली की कार्रवाई की जाए।
उन्होंने प्रखंड विकास पदाधिकारियों को निर्देशित किया है कि वैसे लाभार्थी जो प्रथम किस्त की राशि प्राप्त कर चुके हैं, आवास निर्माण कार्य प्रारंभ करा दिए हैं और उनके द्वारा द्वितीय एवं तृतीय किस्त की राशि के लिए आवेदन दिया गया है तो उनके आवेदन पर एक सप्ताह के अंदर कार्रवाई करते हुए उन्हें द्वितीय व तृतीय किस्त की राशि उपलब्ध कराया जाए।
इसके लिए ग्रामीण आवास सहायकों को नियमित रूप से क्षेत्र भ्रमण कर वैसे लाभार्थियों से संपर्क कर आवास निर्माण का कार्य पूर्ण करवाने हेतु अपेक्षित कार्रवाई करने एवं 31 दिसंबर तक आवास निर्माण कार्य पूर्ण कराने वाले लाभार्थियों के विरुद्ध नीलाम पत्र वाद दायर करते हुए उनसे राशि की वसूली की कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया गया है।
उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि वैसे सभी ग्रामीण आवास सहायक या आवास कर्मी जो अपने कर्तव्य में शिथिलता बरतेंगे तथा जिनकी प्रगति नगण्य रहेगी, उनके विरुद्ध कठोर विभागीय कार्रवाई की जाएगी।
गौरतलब है कि प्रधानामंत्री आवास योजना ग्रामीण अन्तर्गत *“मिशन शत् प्रतिशत पूर्णता”* के कार्यान्वयन हेतु दिनांक 15 नवम्बर 2021 से दिनांक 31 दिसम्बर 2021 तक प्रथम किस्त की राशि प्राप्त कर चुके लाभुकों के आवासों को पूर्ण कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, परन्तु आवास सॉफ्ट पर प्रदर्शित आंकड़ों के अनुसार प्रथम किस्त प्राप्त करने के पश्चात 06 माह में 34,516, 09 माह में 33,042 एवं 12 माह में -26,371 लाभुकों का आवास अपूर्ण पाया गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *